JIMIKAND/SURAN

जिमीकंद / सुरन

 

छत्तीसगढ़  का पसंदीदा सब्जी

 

 

जिमीकंद एक प्रकार का कंद मूल है, जिसमे बहुत से पोषक तत्व पाए जाते है | जिमीकंद बाजार में आसानी से

मिलने

वाली सब्जी में से एक है |

 

इस आर्टिकल में जिमीकंद के पोषक तत्व, इसके फायदे बनाने के तरीके और इसके अधिक सेवन से होने वाले नुकसान

के बारे में चर्चा करेंगे .

 

जिमीकंद का वैज्ञानिक नाम अमोफोर्फ्लम पेओनिफ़ोलियम है |

इसे अंग्रेजी में याम कहा जाता है |

सुरन का आकार हाथी के पैर के समान होने के कारन इसे एलिफेंट फुट याम भी कहा जाता है |

यह आसानी से उग जाता है, बरसात के मोसम में अपने आप ही उग जाते है |

सुरन के कुछ प्रकार जो बाजार में आसानी से मिल जाते है निचे दिए गए है:-

 

   

 

    वाइल्ड याम – इसे जंगली याम के नाम से भी जाना जाता है , दिखने में यह पतला होता है |

 

   पर्पल याम – यह दिखने में सामन्य जिमीकंद के जैसे ही होता है | अन्दर से इसका रंग बैगनी होता है |

 

   चाइनीज याम – इसका स्वाद बहुत अच्छा होता है |

 

   व्हाइट याम – इस जिमीकंद का रंग अन्दर से सफ़ेद होता है |

 

   यलो याम – कैरो  के करण इसका रंग अन्दर से पिला होता है | यह उभरा हुआ तथा कठोर होता है |

 

जिमीकंद में पाए जाने वाले पोषक तत्व :-

 

इसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, शुगर, कैल्शियम, आयरन, मैगीनिशियम, फास्फोरस, पोटेशियम,

 

डियम, जिंक, विटामिन-सी, विटामिन-ए पाया जाता है |

 

 

जिमीकंद के स्वास्थ्य लाभ :-

सुरन में पाए जाने वाले पोषक तत्व स्वस्थ जीवन जीने में सहायता करता है |

इससे किसी भी गंभीर बीमारी का उपचार नहीं होता है, जिमीकंद के सेवन से पोषक तत्व प्राप्त किया जा सकता है |

इसके साथ ही किसी भी बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को सुरन के सेवन से पहले डॉक्टर से परामर्श अवशयक रूप से ले

लेना चाहिए |

 

कोलेस्ट्रोल कंट्रोल करने में मदद करती है :-

इसमें ओमेगा-3 पाया जाता है जो अच्छे कोलेस्ट्रोल को बढाने में मदद करती है |

कोलेस्ट्राल के समान्य बने रहने से बहुत से बीमारियों से बचाव किया जा सकता है |

 

स्वास्थ पेट के लिए :-

फाइबर की पर्याप्त मात्रा पाए जाने के कारन इसके सेवन से पाचन तंत्र सही तरीके से कार्य करता है, साथ ही कब्ज की

समस्या भी नहीं होती है |

 

समान्य ब्लड प्रेशर के लिए :-

इसके सेवन से रक्त प्रवाह सही होने के साथ ही ह्रदय भी स्वास्थ्य होता है |

 

वजन कम करने में सहायक:-

 

जिमीकंद में फाइबर पाया जाता है जिसे पचने में समय लगता है, जिसके वजह से बार-बार खाने से बचा जा सकता है |

 

खून की कमी को दूर करने में सहायक :-

यह आयरन के साथ-साथ फोलेट से भी समृध्द होता है |

 

विटामिन बी-6 :- की पर्याप्त मात्रा होने के करण इसके सेवन से अवसाद की समस्या से बचा जा सकता है |

 

बेबी फ़ूड के लिए अच्छा विकल्प हो सकता है :-

इसमें मोजुद एंटी-ओक्सिडेंट और अन्य माइक्रो न्यूट्रीशन की वजह से बेबी फ़ूड फोर्मुलेशन में भी जिमीकंद के आटे का

उपयोग किया जाता है |

छह माह के पश्चात् सुरन बच्चे को दे सकते है, सेवन से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श आवशयक रूप से ले ले |

 

 

जिमीकंद के नुकसान :-

 

किसी भी वस्तु का अत्यधिक प्रयोग चाहे वह प्रकृति ही क्यों न हो नुकसान पंहुचा सकती है |

 

मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति को सुरन का सेवन चिकित्सीय सलाह से ही करना चाहिए | सुरन में शुगर और कार्बोहाइड्रेट

की

मात्रा होने के कारण रक्त में क्लुकोश की मात्रा को बड़ा सकता है |

 

अस्थमा, साइनस की समस्या हो तो सुरन के सेवन से पूर्व डॉक्टर से परामर्श अवश्य ले ले |

 

जिमीकंद से मुह व गले में खुजली हो सकती है |

 

किसी-किसी को सुरन के सेवन से एलर्जी की समस्या हो सकती है |

 

गर्भवती महिलाओ को सुरन का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है लेकिन यदि किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य समस्या

न हो तो डॉक्टर से सलाह लेकर सेवन किया जा सकता है |

 

जिमीकंद रसोई में :-

 

इसका सब्जी भारत के अलग अलग स्थान  में अलग-अलग तरीके से बनाया व खाया जाता है|

छातिश्गढ़  में इसके (कोपल) नर्म पत्तो की भी सब्जी बनाकर खाते है जो की बरसात के मोसम में निकलता है।

जिसे कमसैया कहा जाता है जो की पोषक तत्व से भरपुर होने के साथ-साथ स्वादिष्ट भी होता है |

 

आइये बनाते है जिमीकंद की सब्जी :-

 

दही जिमीकंद

इस तरह से जिमीकंद का सब्जी बनाने पर स्वादिष्ट बनती है…..                    

सामग्री :-

जिमीकंद 12 kg या आपके अवश्यकता अनुसार, प्याज, कड़ी पत्ता, हरी मिर्च, राई एक छोटा स्पुन, टमाटर

3-4 पिस, हल्दी ½ स्पुन, लाल मिर्च एक स्पुन, नमक स्वादानुसार, दही, तेल |

 

विधि :-

  • सबसे पहले सुरन को अच्छे से साफ पानी से धो ले |
  • अब जिमीकंद का छोटा-छोटा पिस करके उबाल ले |
  • टमाटर, प्याज, मिर्च, हरा धनिया को कट कर लेंगे |
  • उबल जाने पर छिलका अलग करके पानी के सुखने तक धुप में रख दे |
  • अब इसके पिस करके डीप फ्राई कर लेंगे, गोल्डन ब्राउन होने तक|
  •  

 

ग्रेवी के लिए :-

 

   कड़ाई में तेल डाल कर गर्म होने का इंतजार करेंगे।

 

   गर्म हो जाने पर राइ डाल देंगे अब कढ़ी पत्ता और प्याज और हरी मिर्च को डाल कर ब्राउन होने तक पका

  लेंगे।

 

  अब कटे हुए टमाटर डाल देंगे और ऊपर से दक्कन लगा देंगे ।

 

  टमाटर गल जाने पर हल्दी, मिर्च, नमक डाल कर पक्का लेंगे ।

 

  दही को ग्रैंड कर लेंगे एक चमच्च बेसन भी डाल देंगे।

 

अब दही को डाल देंगे साथ ही दो गिलाश पानी डाल देंगे , उबाल आ जाने पर जिमीकंद के पिस को डाल कर

10 मिनट तक पका लेंगे।

 

 

अब हरा धनिया ऊपर से डाल दे…. तैयार है आपकी जिमीकंद की स्वादिष्ट सब्जी|

 

मसाला जिमीकंद

 

शाकाहारियो के लिए सबसे अच्छा विकल्प है, तो आइये बनाये मसाला जिमीकंद….

 

 

सामग्री :-  

 

जिमीकंद 12 kg या आपके अवश्यकता अनुसार, प्याज 3-4, लहसुन, अदरक छोटा पिस, राई एक छोटा स्पुन, टमाटर

1 पिस, हल्दी ½ स्पुन, लाल मिर्च एक स्पुन, नमक स्वादानुसार, तेज पत्ती, गर्म मसाला एक चमच्च, तेल सरसों

(आप कोई भी खाने का तेल ले सकते है) |

 

विधि :-

  • सबसे पहले सुरन को अच्छे से साफ पानी से धो ले |
  • अब जिमीकंद का छोटा-छोटा पिस करके उबाल ले |
  • टमाटर, प्याज, मिर्च, हरा धनिया को कट कर लेंगे |
  • उबल जाने पर छिलका अलग करके पानी के सुखने तक धुप में रख दे |
  • अब इसके पिस करके डीप फ्राई कर लेंगे, गोल्डन ब्राउन होने तक|

 

ग्रेवी के लिए :-

  1. कड़ाई में तेल डाल कर गर्म होने का इंतजार करेंगे|
  2. गर्म हो जाने पर राइ और तेज पत्ती डाल देंगे अब प्याज को डाल कर ब्राउन होने तक पका लेंगे|
  3. अब कटे हुए टमाटर और प्याज, लहसुन, अदरक को पीस कर डाल देंगे और ऊपर से दक्कन लगा देंगे |
  4. थोडा पक जाने पर हल्दी, मिर्च, नमक डाल कर पक्का लेंगे |
  5. तेल जब ऊपर आ जाये तो 2 गिलाश पानी और गर्म मसाला डाल कर, उबाल आ जाने का इंतजार करेंगे|
  6. उबाल आ जाने पर जिमीकंद के पिस को डाल कर 10 मिनट तक पका लेंगे|
  7. अब हरा धनिया ऊपर से डाल दे…. तैयार है आपकी जिमीकंद की स्वादिष्ट सब्जी|

 

 

 

जिमीकंद की चटनी

 

सामग्री :- 

 

 जिमीकंद 1 पाव  या आपके अवश्यकता अनुसार, प्याज 3-4, कड़ी पत्ता, हरा धनिया  लहसुन, अदरक छोटा पिस, राई

एक छोटा स्पुन, जीरा ½ स्पुन, हल्दी ½ स्पुन, लाल मिर्च ½ स्पुन, नमक स्वादानुसार, गर्म मसाला ½ चमच्च, तेल सरसों

(आप कोई भी खाने का तेल ले सकते है) |

 

विधि :-

  • सबसे पहले सुरन को अच्छे से साफ पानी से धो ले |
  • अब जिमीकंद का छोटा-छोटा पिस करके उबाल ले |
  • प्याज, मिर्च, हरा धनिया, लहसुन को कट कर लेंगे |
  • उबल जाने पर छिलका अलग करके अच्छे से मैश कर लेंगे|

 

चटनी बनाने के लिए :-

  1. कड़ाई में तेल डाल कर गर्म होने का इंतजार करेंगे|
  2. गर्म हो जाने पर राइ और कड़ी पत्ती, हरा मिर्च डाल देंगे अब प्याज को डाल कर ब्राउन होने तक पका लेंगे|
  3. मैश किये हुए जिमीकंद को डाल कर अच्छे से मिक्स कर लेंगे |
  4. 10-15 मिनट अच्छे से पका लेंगे अब गर्म मसाला डाल देंगे |
  5. अब हरा धनिया ऊपर से डाल दे…. तैयार है आपकी जिमीकंद की स्वादिष्ट सब्जी|

 

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरुर बताइयेगा, आने वाले ब्लॉग में हम कमशिया

(जिमीकंद के कोमल पत्ती) के बारे में चर्चा करके |

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *